Makka madina में ही हिंदुओं का जाना क्यों मना है।

Surya prakash
0

 Makka madina मक्का मदीना

Makka madina सऊदी अरब में स्थित है यह मुसलमानों का एक पवित्र स्थल है जन्नत के दरवाजे के रूप में यह मुसलमानों के लिए जाना जाता है इस्लाम के पांच प्रमुख स्तंभों में से एक माना जाता है।
क्या आप जानते हैं हर एक मुसलमान की एक बार यहां जाने की ख्वाहिश रहती है मक्का मदीना की इस यात्रा को हज की यात्रा भी कहते हैं प्रत्येक वर्ष लाखों मुसलमान यहां पर जाते हैं मक्का मदीना में एक पवित्र क्यूबा कार का काबा स्थित है जिसके चारों तरफ मुसलमान चक्कर लगाते हैं और फिर बाद में इसे चूमते हैं ऐसा करने से ही उनकी हज की यात्रा पूरी मानी जाती है।

माना जाता है कि अल्लाह की इस पावन यात्रा पर जो भी मुसलमान जाता है और अपनी हज यात्रा पूरी करता है उसे जन्नत नसीब होती है। इस पवित्र तीर्थ स्थल एक मान्यता से जुड़ा है। कहते हैं कि कई हजार साल पहले इसी जगह पर पहली बार मुसलमानों की पवित्र पुस्तक कुरान शरीफ की घोषणा की गई थी।

Makka madina


पैगंबर मुहम्मद साहब ने इसी स्थल पर जन्म लिया था। इसलिए यह मुसलमानों के लिए और भी अधिक महत्व रखता है।



आखिर Makka madina मे ऐसा क्या है कि वहां पर हिंदुओं का जाना मना है।

कई लोगों का मानना है कि Makka madina में भगवान शंकर को कैद करके रखा गया है । लोगों का कहना है कि अगर वास्तव में ऐसा नहीं होता तो यहां पर हर साल मुसलमानों की इतनी भीड़ क्यों उमड़ती है । लेकिन यहां पर एक भी हिंदू देखने को नहीं मिलता है। आखिर ऐसा क्यों है । आखिर सच क्या है । क्यों हिंदू के देखने पर उसे बाहर से ही भेज दिया जाता है।



आपने भी कहीं ना कहीं यह तो सुना ही होगा कि मुस्लिम जिसका प को अपनी पवित्र जगह मांगते हैं उसके अंदर एक शिवलिंग मौजूद है और जिस जगह पर मुसलमान शैतान को पत्थर मारते हैं वह जगह और कोई नहीं खींची है जिसे सऊदी अरब के लोगों ने कैद करके रखा है।

कहते हैं कि अगर कोई भी हिंदू वहां जा कर शिवलिंग पर जल डाल देगा तो शिव जी आजाद हो जाएंगे । यही वजह है कि हिंदुओं को Makka madina में जाने की अनुमति नहीं है। उन्हें बाहर से ही भेजा दिया जाता है । इस बात में कितनी सच्चाई है यह कोई नहीं जानता। दोस्तों अगर आप एक सच्चे हिंदू हैं तो आप तो यह जानते ही होंगे कि जब शंकर जी की तीसरी आंख खुलती है तो प्रलय आता है । तो सोचने वाली बात यह है कि कोई भला शिव शंकर को भी कैद कर सकता है। 


Makka madina में हज पर शैतान को पत्थर क्यों मारा जाता है

सऊदी अरब में मुस्लिम तीर्थ स्थल मक्का मदीना के पास स्थित है रामीजमारत मैं शैतान को पत्थर मारने की रस्म के साथ ही हज की यात्रा पूरी मानी जाती है। यह हज का सबसे खतरनाक पड़ाव माना जाता है।
कहते है कि एक बार अल्लाह में हजरत इब्राहिम से कुर्बानी मांगी इस दौरान इब्राहिम को उनकी सबसे पसंदीदा चीज देनी थी ऐसे में इब्राहिम मुश्किल में पड़ गया क्योंकि उनकी सबसे पसंदीदा चीज  उनका बेटा इस्माइल था। 

क्योंकि यह बेटा उन्हें अपने बुढ़ापे में हुआ था हालांकि इब्राहिम ने अपने बेटे की कुर्बानी देने का फैसला कर लिया इस दौरान जब वह अपने बेटे की कुर्बानी देने जा रहे थे तब रास्ते में उन्हें एक शैतान ने रोक लिया वह उन्हें सवाल करने लगा कि जब वह अपने बेटे की कुर्बानी दे देंगे तो बुढ़ापे में उनकी देखभाल कौन करेगा।

 इस दौरान इब्राहिम सोच में पड़ गए लेकिन फिर भी वाह अल्लाह के हुक्म को पूरा करने के लिए चल दिए हजरत इब्राहिम इस दौरान कोई अटकल नहीं चाहते थे इसलिए उन्होंने सोचा कि कहीं उनकी भावनाएं ना बीच में आ जाए ।

इसलिए उन्होंने अपनी आंखों पर पट्टी बांध ली और बेटे की कुर्बानी की प्रक्रिया अपनाई पर जिस जगह जगह उन्होंने अपने बेटे की कुर्बानी दी थी वहां पर एक मेमना खड़ा था इसके बाद से ही बकरी की बलि दी जान लेगी इसी कारण और शैतान को दोषी माना जाता है क्योंकि उसने इब्राहिम को बरगलाने की कोशिश की थी तभी शैतान को पत्थर मारने की रस्म आज भी चली आ रही है।


Makka madina से जुड़े कुछ बेहद दिलचस्प रहस्य___

1. इस पूरे विश्व के मुसलमान अपनी पांच वक्त की नमाज मक्का में स्थित काबा की तरफ मुंह कर कर पढ़ते हैं।

2. लाखों-करोड़ों मुसलमानों की आस्था से जुड़े इस पावन स्थल पर पैगम्बर मोहम्मद साहब के पदचिन्ह भी  मौजूद है। जिसके दर्शन यहां
पर आने वाले प्रत्येक जायरीन करता है।

3. क्या आप जानते हैं क्या आप जानते हैं मक्का मदीना के मस्जिद के दक्षिण में लंदन के बिगबेन कि तर्ज पर रॉयल मक्का क्लॉक टॉवर बनाया गया है जिसे विश्व के सबसे ऊंची इमारतों में से एक बताया जाता है।

4. पैगम्बर हजरत मुहम्मद साहब की जन्म स्थल मानी जाने वाले Makka madina की स्थापना  करीब 1400 साल पहले मुहम्मद साहब ने की थी । यह बाहर से देखने में चौकोर भवन की तरह लगता है जिस पर काला लिहाफ चढ़ा रहता है।
  





एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
एक टिप्पणी भेजें (0)
Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !